Surya Shashthi Vrat

Surya Shashthi Vrat

27-10-2022

The main date and auspicious time of Surya Shashthi fast, the great festival of folk faith 🙏

Surya Shashthi Vrat, a great festival of folk faith celebrated in North Indians, is a 36-hour hard fast, displaying the energy and power of the divine power, the one who fulfills the wishes and especially the one who gets children by freeing the child hindrance. This great festival is called Surya Shashthi Vrat, in which especially the Sun God is worshipped, after meditating on the setting sun and the rising sun, Arghya is offered to him.

Today this fast has become the identity of our faith and belief not only in India but all over the world.

Today many people observe this fast with full faith and belief to get a child and get their wish fulfilled.

Let us know in this year 2022, when and when the great festival of public faith?? In what form???

And on the date it will be celebrated??

This time starts with taking a bath.

 And this year, this fast of bathing and eating will be celebrated on Friday, October 28, 2022 - On this day, with full faith and belief, by taking a holy bath, we take a vow of fasting in a pure way, of Arva rice, gram dal and bottle gourd. There is a tradition of eating vegetables,

It is also fed to other family members in the form of prasad and with this the great festival of folk faith begins.

Kharna in this great festival of folk faith 🙏

29 October 2022 - Kharna will be celebrated in this great festival of public faith on Saturday,

On this day, men and women fast from morning to day.

By keeping, at night, after offering jaggery kheer, roti, cow's puri cooked in pure ghee and banana made on mango wood, after worshiping it is accepted in the night and then after taking water, the great celebration of this festival. fasting begins.

The first evening Argha of this great festival of folk faith.

  It is on 30th October-Sunday at the time of sunset (to the setting sun), standing in the middle of river and water, with faith and faith, offering all fruits and flowers, especially milk and water.  

🙏 The second sunrise of this great festival of folk faith 🙏

31 October - Monday with sunrise (to the rising sun) standing in the water, saluting the sun, offering all things to him,

Argh is offered with milk and water with faith and belief, and with this the strict fast ends,

 

Sunset time on Sunday 30 October - 05:39 pm

On Monday 31 October, the sunrise time will be at 06:33 in the morning.

(There will be minute difference between sunset and sunrise due to different longitude at different places)

So let's celebrate this fast with full faith and belief and worship the Sun God and get his blessings.

For the childless, this is the most sure and sure-fire fast.

Therefore, whoever wishes to have children,

They must make the resolution of this fast and must also do this fast.

🙏 लोक आस्था के महापर्व सूर्य षष्ठी व्रत की मुख्य तिथि एवं शुभ मुहूर्त 🙏

उत्तर भारतीयों में मनाया जाने वाला लोक आस्था का महापर्व सूर्य षष्ठी व्रत 36 घंटों का एक कठिन व्रत ईश्वरीय शक्ति सूर्य के ऊर्जा एवं शक्ति को प्रदर्शित करने वाला , मनोकामना को पूर्ण करने वाला और विशेषकर संतान बाधा को मुक्त करके संतान प्राप्ति कराने वाला लोक आस्था का यह महापर्व सूर्य षष्ठी व्रत कहलाता है,, इसमें विशेषकर सूर्य देव की पूजा की जाती है डूबते सूरज एवं उगते सूरज का ध्यान करके उन्हें अर्घ्य दिया जाता है

आज यह व्रत सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि विश्व भर में अपने आस्था और विश्वास का पहचान बन चुका है 

आज संतान प्राप्ति के लिए कई लोग इस व्रत को पूरी आस्था और विश्वास के साथ करते हैं और अपनी मनोकामना को पूर्ण होते हुए भी पाते हैं

 आइए जानते हैं इस वर्ष 2022 में लोक आस्था का महापर्व कब-कब??किस रूप में??किस मुहूर्त ??

एवं तिथि में मनाया जाएगा?? 

🙏 नहाए खा के साथ इस वक्त का प्रारंभन होता है 🙏

और इस वर्ष यह नहाए खा का व्रत 28 अक्टूबर 2022 - शुक्रवार को मनाया जाएगा इस दिन पूर्ण आस्था एवं विश्वास के साथ व्रत धारी महिला एवं पुरुष स्नान करके सात्विक हम शुद्ध तरीके से व्रत का संकल्प लेकर, अरवा चावल ,चने की दाल और लौकी की सब्जी खाने की परंपरा है,

 यह प्रसाद के रूप में परिवार के अन्य सदस्यों को भी खिलाया जाता है और इसी के साथ लोक आस्था का महापर्व प्रारंभ हो जाता है

🙏 लोक आस्था के इस महापर्व में खरना 🙏

29 अक्टूबर 2022 - शनिवार को लोक आस्था के इस महापर्व में खरना को मनाया जाएगा ,

इस रोज स्त्री पुरुष सुबह से निर्जला उपवास

रखकर ,रात्रि के समय में आम की लकड़ी पर बने हुए गुड़ की खीर, रोटी ,गाय का शुद्ध घी में पकाए हुए पूरी एवं केला का भोग लगाकर ,पूजन करके रात्रि में इसे ग्रहण किया जाता है और फिर जल ग्रहण करके इस पर्व का महा उपवास प्रारंभ हो जाता है

🙏 लोक आस्था के इस महापर्व का पहला संध्याकालीन अर्घ🙏

 यह 30 अक्टूबर - रविवार को सूर्यास्त के समय में( डूबते हुए सूरज को) सूर्य को नदी एवं जल के बीच में खड़े होकर आस्था और विश्वास के साथ है सभी फल-फूल आदि का भोग लगाकर विशेष रूप से दूध एवं जल का अर्घ्य दिया जाता है

🙏 लोक आस्था के इस महापर्व का दूसरा सूर्योदय कालीन अर्घ 🙏

31 अक्टूबर - सोमवार को सूर्योदय के साथ (उगते हुए सूरज को) जल में खड़े होकर ,सूर्य को प्रणाम करते हुए ,सभी वस्तुओं को उन्हें अर्पण करते हुए, 

दूध एवं जल से आस्था और विश्वास के साथ अर्घ दिया जाता है , और इसी के साथ इस कठोर व्रत का समापन होता है,, 

👉 30 अक्टूबर रविवार को सूर्यास्त का समय- शाम 05:39 मिनट पर होगा

👉 31 अक्टूबर सोमवार को सूर्य उदय का समय- सुबह 06:33 मिनट पर होगा , 

(अलग-अलग जगह पर अलग-अलग रेखांश के कारण सूर्यास्त एवं सूर्योदय में मिनटों का अंतर रहेगा) 

तो आइए पूरे आस्था और विश्वास के साथ इस व्रत को मनाइए एवं सूर्य देव को प्रणाम करके उनका आशीर्वाद प्राप्त कीजिए, 

निसंतान के लिए यह सबसे अचूक और निश्चित ही संतान दिलाने वाला व्रत है

 इसलिए जिन्हें भी संतान प्राप्ति के इच्छा हो, 

उन्हें इस व्रत का संकल्प अवश्य करना चाहिए एवं साथ ही इस व्रत को भी अवश्य करना चाहिए